ब्रिटेन ने किया भारत के साथ भेदभाव, नए कोविड-19 ट्रैवल नियमों पर मचा विवाद

UK India Flight Guidelines: ब्रिटेन ने अपने कोविड-19 यातायात नियमों में बदलाव करते हुए नई गाइडलाइंस जारी की है, इसी के साथ उसने एक नए विवाद को भी जन्म दे दिया है। इस गाइडलाइनंस के जारी होने के बाद ब्रिटेन पर भारत के साथ भेदभाव करने के आरोप लगने लगे हैं। इस नए ट्रैवल रूल्स में यूके की ओर से भारत की दोनों ही कोरोना वैक्सीन को मान्यता नहीं दी गई है।

नए कोरोना वैक्सीन प्रोटोकॉल के तहत यात्रा ढील में भारतीय वैक्सीन को मान्यता नहीं देने के बाद ब्रिटेन पर अब भारत से आने वाले यात्रियों के लिए तय नियमों की समीक्षा करने का दबाव बढ़ता जा रहा है। इन नियमों में आश्चर्य करने वाली बात ये है कि यूके की ओर से भले ही सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा बनाए जाने वाले कोविशील्ड वैक्सीन को मान्यता नहीं दी गई है, लेकिन एस्ट्राजेनेका द्वारा बनाई जा रहे टीके को मान्यता दे दी गई है, जो कि विवाद का कारण बना हुआ है।

AISAU की अध्यक्ष ने बताया भेदभाव पूर्ण कदम

आपको बता दें कि सीरम इंस्टिट्यूट कोई अपनी डेवलप की हुई वैक्सीन बेच नहीं रहा है बल्कि वह सिर्फ एस्ट्राजेनेका से लाइसेंस और अग्रीमेंट के तहत कोविशील्ड बना रहा है। लेकिन फिर भी भारत में बनाई जा रही वैक्सीन को ब्रिटेन ने दरकिनार कर दिया और ऑक्सफोर्ड एस्ट्राजेनेका वैक्सीन को मान्यता दे दी है। वहीं, ब्रिटेन में नेशनल इंडियन स्टूडेंट्स एंड एल्यूमनाई यूनियन (एआईएसएयू) की अध्यक्ष सनम अरोड़ा ने ब्रिटेन के इस कदम को भेदभाव पूर्ण बताया है।

सनम अरोड़ा ने कहा कि भारतीय छात्रों से ब्रिटेन सालाना 2.88 करोड़ पाउंड कमाता है। उसके बावजूद वहां के छात्रों व लोगों के साथ ऐसा व्यवहार क्यों किया जा रहा है। भारतीय छात्र इस बात से परेशान हैं। उन्हें यह लगता है कि यह एक भेदभाव पूर्ण कदम है।

क्या है ब्रिटेन का नया आदेश?

ब्रिटेन के ताजा आदेश में कहा गया है कि भारत के साथ साथ थाईलैंड और अफ्रीका अन्य कई देशों से आने वाले यात्रियों, जो पूरी तरह से वैक्सीनेटेड होंगे, को भी 10 दिनों तक क्वारनटीन रहना होगा। साथ ही इन यात्रियों को कई बार RT-PCR टेस्ट से भी गुजरना होगा। ये नियम पहले से ही लागू हैं, लेकिन भारत को राहत मिलने की उम्मीद थी। हालांकि यूके ने भारत की वैक्सीन को मान्यता न देकर देश को जोरदार झटका दिया है।

किन वैक्सीनों को दी गई मान्यता?

ब्रिटेन की ओर से मान्यता प्राप्त टीकों में ऑक्सफोर्ड एस्ट्राजेनेका, फाइजर बायोनटेक, मॉडर्ना या जैनसेन ही शामिल हैं। लेकिन भारत में कोरोना के खिलाफ वैक्सीनेशन के लिए ज्यादातर कोविशील्ड वैक्सीन का ही इस्तेमाल किया जा रहा है। सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा बनाई जा रही वैक्सीन एस्ट्राजेनेका वैक्सीन का ही भारतीय वर्जन है। लेकिन इसे भारत में बनाए जाने की वजह से इसे ब्रिटेन ने मान्यता नहीं दी है। चूंकि इस लिस्ट में भारत या फिर कोविशील्ड का नाम शामिल नहीं है, ऐसे में अंबर लिस्ट में होने के बावजूद यात्रियों को कठोर शर्तें पूरी करनी होंगी।

Leave a Comment