कोरोना के चलते अनाथ हुए बच्चों के लिए बड़ा कदम, मोदी सरकार जल्द कर सकती है ये एलान

Coronavirus: देश में बीते करीब डेढ़ साल से कोरोना वायरस महामारी (Corona Virus Pandemic) का प्रकोप जारी है। इस दौरान कई लोगों ने अपने परिवार के अहम सदस्यों को खो दिया। कई बच्चे अनाथ हो गए। अब कोविड-19 के चलते माता पिता को खोने वाले बच्चों के लिए केंद्र की मोदी सरकार (Modi Government) ने बड़ा कदम उठाया है। दरअसल, सरकार ऐसे बच्चों के स्टाइपेंड यानी मासिक वजीफे को बढ़ाने की तैयारी में है।

ऐसा कहा जा रहा है कि केंद्र सरकार कोरोना के चलते अनाथ हुए बच्चों के मासिक वजीफे को दो हजार बढ़ाया जा सकता है, जिसके बाद सहायता राशि 4 हजार रुपये हो जाएगी। बता दें कि अब तक सरकार अपने माता पिता को खोने वाले बच्चों को सहायता के तौर पर दो हजार रुपये प्रति माह दे रही थी। लेकिन अब जल्द ही इस राशि को बढ़ाकर 4 हजार किया जा सकता है। यह प्रस्ताव केंद्रीय महिला और बाल विकास मंत्रालय की ओर से दिया गया है, जिस पर मोदी कैबिनेट अगले कुछ हफ्ते में मुहर लगा सकती है।

क्या किया था सरकार ने एलान?

दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 29 मई को कोरोना के चलते अनाथ हुए बच्चों को पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन स्कीम (PM Cares for Children Scheme) के तहत सहायता राशि के तौर पर 2 हजार देने का एलान किया था। इसके साथ ही इन बच्चों को पढ़ाई और मेडिकल इंश्योरेंस की भी सुविधा देने की घोषणा भी की गई थी। ऐसे बच्चों को 23 साल की उम्र पर पहुंचने पर 10 लाख रुपये की वित्तीय सहायत भी दी जाएगी।

गौरतलब है कि कोरोना वायरस महामारी के भयंकर प्रकोप ने लाखों लोगों को अपने आगोश में ले लिया। इनमें से कई ऐसे लोग भी रहे जो अपने परिवार के अकेले कमाने वाले थे तो वहीं कई ऐसे भी थे जो किसी के माता पिता थे, जिनके चले जाने से बच्चों के सिर से अभिभावकों को साया उठ गया। ऐसे बच्चों की मदद के लिए ही मोदी सरकार की ओर से ‘पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन’ योजना की शुरुआत की गई है।

Leave a Comment