सिल्वर जुबली समारोह में न जाने के लिए लालकृष्ण आडवाणी ने बताई यह वजह

0

New delhi/Atulyaloktantra News : भारत के पूर्व उप-प्रधानमंत्री और भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी 15 दिसंबर को दिल्ली विधानसभा में आयोजित सिल्वर जुबली समारोह में हिस्सा नहीं लेंगे। उन्हें इस कार्यक्रम में चीफ गेस्ट के तौर पर आमंत्रित किया गया था। दिल्ली विधानसभा सूत्रों ने बताया कि भाजपा के वरिष्ठ नेता ने समारोह में शामिल न होने की बात कह खेद प्रकट करते हुए विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल को सूचना भेजी है। आडवाणी की अनुपस्थिति में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल चीफ गेस्ट होंगे। वहीं, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया सम्मानीय अतिथि होंगे।

सूत्रों के मुताबिक, इससे पहले लालकृष्ण आडवाणी ने विधानसभा अध्यक्ष को लिखित में कहा था कि वे दिल्ली विधानसभा के सिल्वर जुबली समारोह में शामिल होंगे और सदन को संबोधित करेंगे। हालांकि, भाजपा सदस्यों ने कंफर्म किया कि आडवाली शनिवार को आयोजित इस समारोह में हिस्सा नहीं लेंगे।

गोयल ने बताया कि भाजपा के सह-संस्थापकों में से एक आडवाणी को चीफ गेस्ट के तौर पर इसलिए चुना गया था क्योंकि उनके पास कोई राजनीतिक महत्व नहीं था। उन्होंने आगे कहा, वे सबसे वरिष्ठ राजनेताओं में से एक हैं। आज हमारे बीच सबसे अनुभवी लोगों में एक हैं। वे 1966-70 के बीच पूर्व दिल्ली मेट्रोपॉलिटन काउंसिल के पहले चेयरमैन थे। राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र सरकार अधिनियम के लागू होने के बाद 1993 में दिल्ली विधानसभा अस्तित्व में आया था। इससे पहले राजधानी में मेट्रोपॉलिटन काउंसिल थी।

विधानसभा अध्यक्ष ने उन अन्य नेताओं से भी संपर्क किया है जो या तो मेट्रोपॉलिटन काउंसिल या फिर विधानसभा का हिस्सा रहे हैं। इनमें असम के राज्यपाल जगदीश मुखी, वरिष्ठ भाजपा नेता विजय मलहोत्रा भी शामिल हैं। सूत्रों के अनुसार, मुखी शनिवार को दिल्ली में मौजूद रहेंगे लेकिन सिल्वर जुबली समारोह में हिस्सा नहीं लेंगे। दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित और सुषमा स्वराज को भी कार्यक्रम में शामिल होने के लिए निमंत्रण भेजा गया है। सूत्रों ने बताया कि अभी तक यह साफ नहीं हो पाया है कि ये दोनों कार्यक्रम में शामिल होंगी या नहीं?

अपनी सलाह दे (देश की आवाज)

Please enter your comment!
Please enter your name here