पुलिस पकडऩे में हुई नाकाम, आरोपी ने खुदको टीवी पर बताया बेगुनाह

0

U.P/Atuliyaloktantra News : उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में गौकशी के शक में हुई हिंसा व बवाल में इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह समेत दो लोगों की हत्या मामले में पुलिस ने 88 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। इसमें 27 लोग नामजद हैं, जिसमें बजरंग दल के जिला संयोजक योगेश राज, भाजपा युवा मोर्चा सयाना के नगराध्यक्ष शिखर अग्रवाल और विहिप कार्यकर्ता उपेंद्र राघव को भी नामजद किया गया है।

अन्य आरोपी भी हिंदूवादी संगठनों से जुड़े बताए जा रहे हैं। पुलिस ने कुछ आरोपियों को गिरफ्तार किया है, लेकिन मुख्य आरोपी अभी भी फरार चल रहे हैं। योगेश ने जहां वीडियो जारी कर खुद को बेकसूर बताया है। वहीं, शिखर अग्रवाल ने भी मीडिया चैनल को इंटरव्यू दिया है। अन्य आरोपी अंडरग्राउंड हो चुके हैं। पुलिस मुख्य आरोपियों को गिरफ्तार करने में नाकाम रही है।

शिखर अग्रवाल ने एबीपी न्यूज से बात करते हुए कहा, हमने कोई हत्या नहीं कराई है। न हीं हमारा हत्या से कोई वास्ता है और न हीं हम इससे जुड़े हुए हैं। पहली बात ये है कि वह हत्या नहीं, बल्कि दुर्घटना है। जब इंस्पेक्टर साहब ने भीड़ को धमकी दी तो भीड़ उग्र होती चली गई। हमने और साथियों ने भीड़ को रोकने की पूरी कोशिश की, भीड़ नहीं रूक पाई। भीड़ जमा कैसे हुई सवाल पर अग्रवाल ने कहा, जब हमारी माताओं और बहनों का शोषण किया जाएगा, गाय काटी जाएगी, सरेआम काटी जाएगी, तो क्या तब भी हमारे लोग इक्_े न होंगे?

उस दिन की घटना के बारे में बताते हुए अग्रवाल ने आगे कहा, मैं नमक का कारोबार करता हूं। उस दिन ट्रक से सामान उतरवा रहा था। मेरे एक दोस्त का फोन आया कि गांव के महाव के जंगलों में गोकशी हो गई है। चलना जरूरी है। मैं अपनी टीम के साथ वहां पर पहुंचा। जहां अवशेष पड़े हुए थे, वहां पहुंचे। वहां करीब 80 लोग मौजूद थे। वहां इंस्पेक्टर सुबोध कुमार, सहित तहसीलदार व अन्य पुलिसकर्मी मौजूद थे। इसके बाद वहां ट्रैक्टर ट्रॉली आ गई। ग्रामीणों ने उसे ट्रॉली में रख दिया। हमने कहा कि अब थाने चलते हैं और प्राथमिकी दर्ज करवाते हैं।

सरेंडर करने की बात पर अग्रवाल ने कहा, मेरा पहला नैतिक दायित्व ये है कि मैं अपनी आत्मरक्षा करूं। अगर मैं जीवित ही न रहा तो नैतिक और अनैतिक क्या रहा? मेरी जान को खतरा है। पुलिस ने मेरा पूरा घर तोड़ दिया। मेरे वकीलों से मेरी बात चल रही है। मैं समय पर कोर्ट में सरेंडर करूंगा। वहां अपनी सारी बात कहूंगा। सीएम योगी आदित्यनाथ पर मेरा पूरा भरोसा है। मैं उनके पास तक अपनी बात पहुंचाउंगा।

अपनी सलाह दे (देश की आवाज)

Please enter your comment!
Please enter your name here