नेताओं और मीडिया ने मुझे ‘डिफॉल्टर’ बना दिया : विजय माल्या

0

New Delhi/Atulya Loktantra : भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या ने आज फिर कहा है कि उनके प्रत्यर्पण के फैसले को लेकर कई तरह की टिप्पणियां की जा रही हैं। जो कि एक अलग मामला है और वह पूरा पैसा लौटाने को तैयार हैं। यह बात उन्होंने ट्वीट में कही। उन्होंने आगे कहा कि वह इस बात को समझ नहीं पा रहे हैं कि उनके प्रत्यर्पण का निर्णय या दुबई से हालिया प्रत्यर्पण या फिर समझौता प्रस्ताव आपस में कैसे जुड़े हैं।

माल्या ने कहा, “जहां कहीं भी मैं फिजिकली उपस्थित हूं, मेरी अपील है कृपया ले लें। मैं इस बात को खत्म करना चाहता हूं कि मैंने पैसा चुराया है।” भारतीय बैंकों का अरबों रुपये लेकर ब्रिटेन भागे माल्या का ये बयान क्रिश्चियन मिशेल के प्रत्यर्पण के चंद घंटे बाद ही आया है। माल्या के प्रत्यर्पण पर फैसला चार दिन बाद आने वाला है। किंगफिशर एयरलाइंस के पूर्व प्रमुख ने बुधवार को सोशल मीडिया के जरिये भारत सरकार से इस पेशकश को स्वीकार करने का निवेदन किया। वह अभी ब्रिटेन में जमानत पर बाहर है।

AdERP School Management Software

बताते चलें कि भारत का करीब 9000 करोड़ रुपये लेकर देश से भागे 62 वर्षीय माल्या के प्रत्यर्पण पर 10 दिसंबर को ब्रिटिश कोर्ट द्वारा फैसला सुनाया जाना है। हालांकि कारोबारी ने कहा कि प्रत्यर्पण की कार्यवाही का मामला अलग है। माल्या प्रत्यर्पण को लेकर ब्रिटेन में कानूनी लड़ाई लड़ रहा है। कारोबारी का कहना है कि नेताओं और मीडिया ने उसे गलत तरीके से ‘डिफॉल्टर’ के रूप में पेश किया है।

इससे पहले बुधवार को उन्होंने ट्वीट कर कहा था कि वह अपराधी नहीं हैं। उन्हें भारत में अपराधी माना जा रहा है, तीन दशक तक किंगफिशर ने भारत में कारोबार किया है। इस दौरान उन्होंने कई राज्यों की मदद भी की है। उन्होंने कहा कि किंगफिशर एयरालाइंस के लगातार घाटे में जाने से उन्हें दुख है। वह सभी बैंकों का मूलधन देने के लिए तैयार हैं लेकिन ब्याज नहीं दे सकते। बैंकों को इसे लेना चाहिए।

2016 से बकाया राशि के निपटान की पेशकश
विजय माल्या ने बुधवार को एक के बाद एक ट्वीट कर दावा किया कि वह 2016 से ही बैंकों की बकाया राशि चुकाने की पेशकश कर रहा था। उसने कहा कि विमान ईंधन (एटीएफ) की कीमतों में वृद्धि के कारण किंगफिशर एयरलाइंस का घाटा बढ़ता गया और बैंकों का पैसा इसी में जाता रहा।

अपनी सलाह दे (देश की आवाज)

Please enter your comment!
Please enter your name here