Wednesday, February 1, 2023
HomeLatest Hindi Newsकानपुरः बिकरू गोलीकांड में 37 पुलिसकर्मी दोषी, DGP से एक्शन की सिफारिश

कानपुरः बिकरू गोलीकांड में 37 पुलिसकर्मी दोषी, DGP से एक्शन की सिफारिश

Kanpur/Atulya Loktantra : कानपुर के चौबेपुर के बिकरू गांव में पुलिस टीम पर हमला कर सीओ सहित आठ पुलिसकर्मियों की हत्या मामले में यूपी सरकार एसआईटी की रिपोर्ट के बाद अब एक्शन में है. यूपी के गृह विभाग ने उन 37 पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई करने को कहा है जिन्हें इस मामले में दोषी पाया गया है.

एसआईटी की रिपोर्ट में दबिश देने गई पुलिस टीम पर हमले और सीओ सहित आठ पुलिसकर्मियों की हत्या मामले में 37 पुलिसकर्मियों को दोषी माना गया है. गृह विभाग ने डीजीपी से 37 दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ एक्शन लेने की सिफारिश की है.

इससे पहले, कानपुर में गैंगस्टर विकास दुबे की पत्नी ऋचा दुबे के खिलाफ केस दर्ज किया गया था. ऋचा दुबे के खिलाफ फर्जी आईडी के जरिये सिम लेने के मामले में एफआईआर दर्ज की गई थी.
बिकरू कांड में गैंगस्टर विकास दुबे के खात्मे के बाद अब विकास की पत्नी ऋचा दुबे पुलिस जांच की रडार में फंस चुकी है. ऋचा पर बिकरू कांड के बाद सिम कार्ड के प्रयोग और दस्तावेजों से खिलवाड़ और गुमराह करने का आरोप है. यह भी आरोप है कि उसे पूरे घटनाक्रम की जानकारी थी और वह विकास दुबे के काले कारनामों में भी शामिल थी.

बिकरू हत्याकांड के बाद विकास दुबे की पत्नी ऋचा दुबे को पुलिस ने क्लीन चिट देकर छोड़ दिया था. लेकिन एसआईटी की रिपोर्ट में हुए चौकाने वाले खुलासे से ऋचा का बचना मुश्किल हो गया. क्योंकि एसआईटी की रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि ऋचा, उसके रिश्तेदार, और विकास के खास गुर्गे फर्जी आईडी से सिम लेते थे. विकास का परिवार फर्जी आईडी से लिए गए सिम का इस्तेमाल करता था.

एसआईटी की सिफारिश पर कानपुर पुलिस ने ऋचा दुबे पर एफआईआर दर्ज कर दी है. इसके बाद अब चर्चा है कि पति की मौत के बाद अंतिम संस्कार में शामिल होने आई ऋचा दुबे के हाव-भाव जिस तरह से झलक रहे थे तो लग रहा था कि विकास दुबे के बाद अब ऋचा दुबे के हाथों कमान रहेगी. लेकिन एसआईटी की रिपोर्ट के बाद दर्ज हुई एफआईआर से ऋचा दुबे के लिए मुसीबत खड़ी हो गई है.

Deepak Sharma
Deepak Sharma
इस न्यूज़ पोर्टल अतुल्यलोकतंत्र न्यूज़ .कॉम का आरम्भ 2015 में हुआ था। इसके मुख्य संपादक पत्रकार दीपक शर्मा हैं ,उन्होंने अपने समाचार पत्र अतुल्यलोकतंत्र को भी 2016 फ़रवरी में आरम्भ किया था। भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से इस नाम को मान्यता जनवरी 2016 में ही मिल गई थी । आज के वक्त की आवाज सोशल मीडिया के महत्व को समझते हुए ही ऑनलाईन न्यूज़ वेब चैनल/पोर्टल को उन्होंने आरंभ किया। दीपक कुमार शर्मा की शैक्षणिक योग्यता B. A,(राजनीति शास्त्र),MBA (मार्किटिंग), एवं वे मानव अधिकार (Human Rights) से भी स्नातकोत्तर हैं। दीपक शर्मा लेखन के क्षेत्र में कई वर्षों से सक्रिय हैं। लेखन के साथ साथ वे समाजसेवा व राजनीति में भी सक्रिय रहे। मौजूदा समय में वे सिर्फ पत्रकारिता व समाजसेवी के तौर पर कार्य कर रहे हैं। अतुल्यलोकतंत्र मीडिया का मुख्य उद्देश्य राष्ट्रीय सरोकारों से परिपूर्ण पत्रकारिता है व उस दिशा में यह मीडिया हाउस कार्य कर रहा है। वैसे भविष्य को लेकर अतुल्यलोकतंत्र की कई योजनाएं हैं।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments