हाथरस मामले पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने विपक्ष पर कसा तंज, पुलिस को दी सलाह

0

Uttar Pardesh/Atulya Loktantra : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज हाथरस मामले पर विपक्षियों पर हमला बोला. बता दें कि हाथरस में 20 साल की महिला से कथित रूप से सामूहिक बलात्कार किया गया. उसके बाद रात 2 बजे पुलिस द्वारा उसका दाह संस्कार किया गया, जिस दौरान पीड़िता के परिवार को बंद रखा गया. मामले पर मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने ट्वीट किया, “जिन्हें विकास अच्छा नहीं लग रहा है, वह जातीय और सांप्रदायिक दंगा भड़काना चाहते हैं. इन दंगों की आड़ में उन्हें राजनीतिक रोटियां सेंकने का अवसर मिलेगा,इसलिए वे नित नए षड्यंत्र करते हैं,इन षड्यंत्रों के प्रति पूरी तरह आगाह होते हुए हमें विकास की प्रक्रिया को तेजी से आगे बढ़ाना है.”

मुख्यमंत्री ने एक अन्य ट्वीट में लिखा, “संवाद के माध्यम से बड़ी से बड़ी समस्याओं का समाधान सम्भव है. ‘नए उत्तर प्रदेश’ में संवाद ही समस्त समस्याओं के समाधान का माध्यम है. पुलिस विभाग को माताओं एवं बहनों से संबंधित विषयों तथा अनुसूचित जाति व जनजाति से जुड़े मुद्दों में अति संवेदनशीलता और सक्रियता रखने की आवश्यकता है.”

बता दें कि योगी आदित्यनाथ सरकार को मामले में भारी आलोचना का सामना करना पड़ रहा है. पीड़ित परिवार ने पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाया है.पीड़िता के शव को दिल्ली के अस्पताल से हाथरस लाया गया और रात 2 बजे उसका दाह संस्कार किया गया.

पिछले हफ्ते, कांग्रेस ने दो बार हाथरस आने की कोशिश की थी. गुरुवार को राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा को पुलिस ने रोक दिया, जबकि वे परिवार से मिलने के लिए जा रहे थे. कुछ ही देर में बीच रास्ते में रुकने के बाद वे दूसरे प्रयास में सफल रहे. राहुल गांधी ने पीड़िता परिवार से मिलने के बाद मीडिया से कहा, “कोई भी ताकत हमें चुप नहीं कर सकती है.”

रविवार को, पार्टी नेता जयंत चौधरी के नेतृत्व में राष्ट्रीय लोकदल के कार्यकर्ताओं पर उस समय लाठीचार्ज किया गया जब उन्होंने आज महिला के परिवार से मिलने की कोशिश की. आरएलडी ने बाद में पुलिस कार्रवाई के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया.

राज्य की विपक्षी समाजवादी पार्टी का एक प्रतिनिधिमंडल आगरा के पास पुलिस द्वारा कुछ समय के लिए रोके जाने के बाद परिवार से मिला. पार्टी ने ट्वीट किया, “यह जबरन रोक लोकतंत्र की हत्या है … समाजवादी न्याय के लिए अपनी लड़ाई में पीड़ित परिवार के साथ खड़े होंगे.” समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने मामले में 11 सदस्यीय तथ्य-खोजी टीम बनाई है.

अपनी सलाह दे (देश की आवाज)

Please enter your comment!
Please enter your name here