मोदी सरकार की कोशिशों के बावजूद नहीं रुक रहे बैंक फ्रॉड, 1 साल में 15% बढ़े केस

0
30

New Delhi/Atulya Loktantra : Bank fraud, case के मामलों की तत्काल पहचान और जवाबदेही तय करने के मोदी सरकार के तमाम प्रयासों के बावजूद बैंक फ्रॉड केस कम नहीं हो रहे. (According to the annual report of the Reserve Bank)रिजर्व बैंक की सालाना रिपोर्ट के अनुसार, वित्त वर्ष 2018-19 में बैंकों में जालसाजी के मामले 15 फीसदी बढ़ गए हैं. रिपोर्ट में इससे भी चौंकाने वाली बात यह है कि रकम के हिसाब से जालसाजी में 73.8 फीसदी की भारी बढ़त हुई है. हालांकि, रिजर्व बैंक का कहना है कि ये सभी केस पिछले वित्त वर्ष में पकड़े जरूर गए हैं, लेकिन ज्यादातर कई साल पुराने हैं.

Bank fraud, case increased by 15% in 1 year 71,543 करोड़ की जालसाजी

According the annual report Reserve Bank, Bank fraud, case increased, FY 2018-19 में बैंकिंग सेक्टर में 6,801 जालसाजी के मामले हुए जिसमें 71,542.93 करोड़ रुपये की रकम शामिल थी. इनमें सबसे बड़ा हिस्सा सार्वजनिक बैंकों का ही है, जिनमें 64,509.43 करोड़ रुपये के 3,766 फ्रॉड केस हुए. इसके पिछले वित्त वर्ष यानी 2017-18 में 41,167.04 करोड़ रुपये रकम के 5,916 फ्रॉड केस हुए थे. देश में बैंक कर्ज में सबसे बड़ा हिस्सा भी सार्वजनिक बैंकों का ही होता है.

Bank fraud, case increased by 15% in 1 year जालसाजी की पहचान में देरी

चौंकाने वाली जानकारी यह भी सामने आई है कि मोदी सरकार में भी Bank fraud, case increased के मामलों की पहचान में काफी देर लग रही है. रिपोर्ट के अनुसार बैंकों को जालसाजी की पहचान करने में केस होने के बाद औसतन 22 महीने लग जा रहे हैं. यह हाल तब है जब नीरव मोदी जैसे मामलों के बाद रिजर्व बैंक और सरकार ने काफी सख्त दिशानिर्देश जारी किए हैं.

Bank fraud, case increased by 15%
According the annual report Reserve Bank, Bank fraud, case increased

According the annual report Reserve Bank, Bank fraud, case increased इससे भी बदतर बात यह है कि वर्ष 2019

  • 100 करोड़ या उससे ऊपर के कुल 52200 करोड़ रुपये की बड़ी जालसाजी वाले मामलों की जो पहचान हुई है उसमें औसतन 55 महीने यानी करीब 6 साल लग गए.
  • सार्वजनिक बैंकों के बाद जालसाजी के ज्यादा मामले निजी बैंकों में पाए गए हैं, लेकिन जानकार इस बात से अचंभित हैं कि विदेशी बैंक इससे काफी बचे रहे हैं.
  • विदेशी बैंकों में जालसाजी के सिर्फ 762 केस पकड़े गए जिनमें करीब करीब 955 करोड़ रुपये की रकम ही शामिल थी.

सबसे ज्यादा जालसाजी कर्जों को लेकर हुई है. इसके बाद कार्ड/इंटरनेट से संबंधित जालसाजी और उसके बाद जमा संबंधी जालसाजी हुई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here