यह भी एक मिसाल है। देशवासियों को इससे प्रेरणा लेने की जरूरत है : ज्ञानेन्द्र रावत

0
72
ज्ञानेन्द्र रावत

 देश में अक्सर बहुतेरी मिसालें देखने-सुनने को मिलती हैं। उनके चर्चे भी बहुत होते हैं और सच यह भी है कि बहुतेरी मिसालें तो चर्चा के लिए ही होती हैं। लेकिन यहां हम एक ऐसी अनूठी घटना की आपके समक्ष चर्चा कर रहे हैं जिसकी मिसाल मिलना मुश्किल है, वह भी आज के जमाने में।

यह करिश्मा हुआ है इंदौर में। इंदौर के पास एक गांव बेटमा है। इस गांव के रहने वाले बी एस एफ के एक जवान आज से 27 बरस पहले शहीद हो गये थे। तब से उनका परिवार इस गांव में झोंपड़ी में रह कर जैसे-तैसे अपना गुजारा कर रहा था।

50% for Advertising
Ads Advertising with us AL News

सरकारी राहत के चर्चे तो बहुत होते हैं लेकिन वह कितनों को और कितनी नसीब होती है,  यह जग जाहिर है। इस सच्चाई को नकारा नहीं जा सकता। इस शहीद परिवार की पीड़ा को समझा गांव के नौजवानों ने। उन्होंने आपस में चर्चा की और इसके लिए एक अभियान शुरू कर दिया। देखते ही देखते नौजवानों ने लोगों की मदद से 11 लाख की राशि इकट्ठा कर एक सुंदर सा मकान बना कर खड़ा कर दिया।

सबसे बड़ी बात यह कि उन्होंने उसे देने के लिए स्वाधीनता दिवस का दिन चुना और उस दिन शहीद की पत्नी को राखी बंधवा कर उसे भेंट कर दिया। विडम्बना यह कि इसका उन्होंने कोई प्रचार तक नहीं  किया। लेकिन कहते हैं अच्छाई की खुशबू भी फैलने में देर नहीं लगती तो इसकी चर्चा भी चारो ओर होने लगी। होती भी क्यों नहीं आखिर बात ही अनूठी थी। हरेश कुमार और नितिन मुदगल इस जानकारी के लिए बधाई के पात्र हैं जिनके माध्यम से देश-दुनिया को इंदौर के नौजवानों के इस गौरवशाली प्रयास के बारे में पता चल सका।

इस पुनीत कार्य के लिए इंदौर के ग्रामीण क्षेत्र के युवाओं की जितनी भी प्रशंसा की जाए वह कम है। आखिर उन लोगों ने काम ही ऐसा किया है। इसके लिए वह बधाई के पात्र हैं। जबकि होना यह चाहिए कि शहीदों के परिवारों के पुनर्वास के बारे में भारत सरकार ध्यान दे जो उसका दायित्व भी है और कर्तव्य भी। यह घटना देशवासियों के लिए प्रेरणादायक है। देश के स्वातंत्र्य आंदोलन के दौरान भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के चर्चित अध्यक्ष रहे महान क्रांतिकारी और आजाद हिंद फौज के महानायक नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के बलिदान दिवस पर आदर और श्रद्धा सहित शत शत नमन। देश के आजादी के इतिहास में उनका नाम सदा गौरव के साथ लिया जायेगा। जय हिंद।

                                              (प्रस्तुत कर्ता ज्ञानेन्द्र रावत वरिष्ठ पत्रकार एवं चर्चित पर्यावरणविद हैं)

 

50% for Advertising
Ads Advertising with us AL News
Previous newsबीते 24 घंटों में 55 हजार नए मामले, मरीजों का आंकड़ा 27 लाख के पार, करीब 52 हजार की मौत
Next newsपार्क के ट्री-गार्ड उखड़वाने से सेक्टरवासी नाराज, विधायक के बेटे को ठहराया जिम्मेदार
इस न्यूज़ पोर्टल अतुल्यलोकतंत्र न्यूज़ .कॉम का आरम्भ 2015 में हुआ था। इसके मुख्य संपादक पत्रकार दीपक शर्मा हैं ,उन्होंने अपने समाचार पत्र अतुल्यलोकतंत्र को भी 2016 फ़रवरी में आरम्भ किया था। भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से इस नाम को मान्यता जनवरी 2016 में ही मिल गई थी । आज के वक्त की आवाज सोशल मीडिया के महत्व को समझते हुए ही ऑनलाईन न्यूज़ वेब चैनल/पोर्टल को उन्होंने आरंभ किया। दीपक कुमार शर्मा की शैक्षणिक योग्यता B. A,(राजनीति शास्त्र),MBA (मार्किटिंग), एवं वे मानव अधिकार (Human Rights) से भी स्नातकोत्तर हैं। दीपक शर्मा लेखन के क्षेत्र में कई वर्षों से सक्रिय हैं। लेखन के साथ साथ वे समाजसेवा व राजनीति में भी सक्रिय रहे। मौजूदा समय में वे सिर्फ पत्रकारिता व समाजसेवी के तौर पर कार्य कर रहे हैं। अतुल्यलोकतंत्र मीडिया का मुख्य उद्देश्य राष्ट्रीय सरोकारों से परिपूर्ण पत्रकारिता है व उस दिशा में यह मीडिया हाउस कार्य कर रहा है। वैसे भविष्य को लेकर अतुल्यलोकतंत्र की कई योजनाएं हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here