गणतंत्र दिवस हेतु स्वामी नित्यानंद जी को मुख्य अतिथि बनाया जाये- ज्ञानेन्द्र रावत

अतुल्य लोकतंत्र के लिए वरिष्ठ पत्रकार और पर्यावरणविद् ज्ञानेन्द्र रावत की कलम से…
देश इस समय संकट के दौर से गुजर रहा है। इसका अहम कारण यह है कि देश के इतिहास में यह पहला मौका है कि हमारे गणतंत्र दिवस पर ब्रिटेन के प्रधानमंत्री जी ने यहां आने का आमंत्रण अस्वीकार कर दिया है। इससे हमारे प्रधानमंत्री जननायक, देश के गरीबों-किसानों के मसीहा, हिन्दू धर्म ध्वज वाहक माननीय श्री नरेन्द्र दामोदर दास मोदी जी का चिंतित होने से देश की जनता बेहद दुखी है। वह चाहती है कि उसके प्रधानमंत्री जी किसी भी दृष्टि से चिंतातुर ना दिखें। वह बात दीगर है कि देश का अन्नदाता किसान, जिसके जांबाज बेटे देश की रक्षा की खातिर सीमा पर अपना बलिदान देना अपना धर्म समझता है, वह कृषि कानूनों के खिलाफ राजधानी दिल्ली की सीमा पर धरने पर है। जनता चाहती है कि बरतानी प्रधानमंत्री गणतंत्र दिवस पर हमारे यहां ना आयें तो कोई बात नहीं, देश में महापुरुषों, राष्ट्रभक्तों और माननीयों की कोई कमी है क्या? यहां तो गली-गली में राष्ट्र भक्त असंख्य भरे पडे़ हैं।हमारे प्रधानमंत्रीजी इस अवसर पर अपने चहेते स्वामी नित्यानंद जी को मुख्य अतिथि का सम्मान प्रदान करें। वैसे भी वह उनके प्रशंसक भी हैं और परम भक्त भी। वह उनका बेहद सम्मान भी करते हैं। इससे प्रधानमंत्री जी की चिंता भी दूर हो जायेगी और देश इतने बडे़ महान धार्मिक ,सच्चरित्र, हिन्दू राष्ट्र के प्रबल पक्षधर और प्रकाण्ड विद्वान को गणतंत्र दिवस के मुख्य अतिथि के रूप में देख गौरवान्वित भी हो सकेगा। देश के इतिहास का यह स्वर्णिम पल होगा जब कोई देशवासी और वह भी संत इस समारोह का मुख्य अतिथि होकर देश को कृतार्थ करेगा और राजपथ से देशवासियों को आशीर्वाद प्रदान करेगा। इससे यह भी साबित हो जायेगा कि मोदी हैं तो मुमकिन है।

 

देखा जाये तो वैसे हमारे देश में विभूतियों की कोई कमी नहीं है। पीठाधीश्वर शंकराचार्य भी हैं।अब तो देश में शंकराचार्यों की बहुत ही लम्बी श्रृंखला है। शंकराचार्य बनाने में बीते दशकों में कीर्तिमान स्थापित किया गया है। किसने यह कीर्तिमान बनाया है, यह जगजाहिर है। फिर साधु-संतों-स्वामियों की तादाद भी बहुत है। वह तो गिनती से भी ज्यादा है। बापू भी हैं और महाराज भी हैं। इनका आशीर्वाद पाने को बडे़-बडे़ राजनेता-उद्योगपति लालायित रहते हैं। नाच-गाकर और अपनी विशेष विधा से अपनी कुटिया में आशीर्वाद देने वाले आशाराम जैसे स्वयं घोषित संत भी हैं। ऐसे लोगों के चरण वंदन करने में एक दल विशेष के हमारे नेताओं ने रिकार्ड भी बनाये हैं। इस कटु सत्य को झुठलाया नहीं जा सकता। फिर जहां तक राष्ट्र भक्त और शीर्ष नेताओं का सवाल है तो उस श्रेणी में आदरणीय श्री लालकृष्ण आडवाणी जी व डा.मुरली मनोहर जोशी जी सर्वोपरि हैं और वह दल में ही नहीं देश भर में सर्वग्राह्य भी हैं। सबसे बडी़ बात यह है कि वह देश की मौजूदा सरकार के मार्गदर्शक भी हैं। उनको गणतंत्र दिवस समारोह का मुख्य अतिथि बनाया जाना देश के लिए अभूतपूर्व और देश की जनता के लिए सरकार का स्वागत योग्य कदम होगा। यदि ऐसा हुआ तो ऐतिहासिक होगा और राष्ट्र के इतिहास में पहली बार होगा।इससे देश का भाल समूचे विश्व में ऊंचा उठेगा। अब सवाल यह है कि मुख्य अतिथि होगा कौन?किसी को भी देश के गणतंत्र दिवस समारोह का अतिथि बनाया जा सकता है। यह भविष्य के गर्भ में है। आखिरकार अब यह निर्णय तो मोदी जी को ही करना है कि वह किसको इस अवसर के लिए उचित और उपयुक्त समझते हैं और किसको उत्तम पात्र व किससे इस अवसर की गरिमा बरकरार रहती है। बहरहाल यह निश्चित है कि मोदी है तो देश में कुछ भी मुमकिन है।इसमें दो राय नहीं।

(लेखक ज्ञानेन्द्र रावत वरिष्ठ पत्रकार और पर्यावरणविद् हैं)

Leave a Comment