20 C
Delhi
Saturday, April 17 2021
Home News Tags ब्रेनली सर्वे

News Tag: ब्रेनली सर्वे

ब्रेनली सर्वे: 51% भारतीय छात्रों को लाइव टीचर के समर्थन के बिना विज्ञान के कंसेप्ट समझना मुश्किल 

ब्रेनली के 36% यूजर्स का दावा-  विज्ञान की पढ़ाई करते समय ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफॉर्म सबसे अधिक सहायक थे, इसके बाद 23% और 22% पर क्रमशः शिक्षक और माता-पिता थे भारत, 4 मार्च 2021: राष्ट्रीय विज्ञान दिवस 2021 के अवसर पर ब्रेनली ने अपने सर्वे में पाया कि 76.2% भारतीय छात्रों ने दावा किया कि उन्होंने अपने विज्ञान संबंधी प्रश्नों को हल करने के लिए ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफार्मों को मददगार पाया। यह सर्वेक्षण देश के सभी हिस्सों से 3,693 उत्तरदाताओं के सैम्पल साइज पर आधारित है और छात्रों के सामने पेश आई विज्ञान-आधारित चुनौतियों में गहरी अंतर्दृष्टि प्रदान करता है। मौजूदा परिदृश्य में शिक्षकों की निरंतर सहायता के बिना छात्रों और उनकी तैयारियां प्रभावित हुई हैं। सर्वेक्षण मं 51.2% उत्तरदाताओं ने दावा किया कि उन्होंने विज्ञान संबंधी कंसेप्ट्स को शिक्षकों के बिना सीखना मुश्किल पाया, जबकि 19.8% ने कहा कि यह कहना मुश्किल है। यह पूछे जाने पर कि सबसे चुनौतीपूर्ण विषय कौन-सा था, 35.4% छात्रों ने गणित कहा, जबकि 24% छात्रों ने कहा कि उनके लिए फिजिक्स ज्यादा चुनौतीपूर्ण रहा। रसायन विज्ञान और जीवविज्ञान क्रमशः 12.3% और 10.2% पर रहे। हालांकि, ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफ़ॉर्म ने काफी लोगों के लिए संकटमोचक का काम किया है- 76.2% छात्रों ने कहा कि यह प्लेटफॉर्म उनके लिए प्रश्नों और प्रोजेक्ट्स को पूरा करने में मददगार बने। वहीं, 36.4% ने यह भी कहा कि उन्हें लॉकडाउन के दौरान ऐसे प्लेटफार्मों से सबसे बड़ी मदद मिली। उसके बाद उन्होंने शिक्षकों, माता-पिता, और साथियों से क्रमशः 22.8%, 21.5% और 5.8% मदद मिली। विज्ञान में भारत की बढ़ती रुचि के कारण, 49.2% छात्रों ने दावा किया कि वे विज्ञान में अपना करियर बनाना चाहते हैं जबकि 25.8% छात्रों ने इसके विपरीत अपनी बात कही। 25.1% ने अब तक कुछ भी तय नहीं किया है और वे भविष्य में उपलब्ध धाराओं में से कुछ भी चुन सकते हैं। ब्रेनली में सीपीओ राजेश बिसानी ने सर्वेक्षण के निष्कर्षों पर बात करते हुए कहा, “ब्रेनली में हम मानते हैं कि शिक्षा का भविष्य ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफार्मों और पारंपरिक स्कूलों को जोड़ता है। विज्ञान और प्रौद्योगिकी आगे बढ़ रही है, खासकर प्रौद्योगिकी जीवन के सभी क्षेत्रों में प्रमुखता लेती जा रही है। यह बहुत अच्छा है कि छात्रों की सोच भी इस उभरती आवश्यकता के अनुरूप हैं और विज्ञान के क्षेत्र में अपने करियर को वे आगे बढ़ाना चाहते हैं। ” ब्रेनली दुनिया का सबसे बड़ा ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफॉर्म है। यह 350 मिलियन से अधिक छात्रों, अभिभावकों और शिक्षकों का समुदाय है, जो कोलेबोरेटिव लर्निंग को आगे बढ़ाते हैं। इस प्लेटफॉर्म पर भारत के कुल 55 मिलियन+ यूजर हैं, इसके यूजर-बेस एक बड़ा हिस्सा यू.एस., रूस, इंडोनेशिया, ब्राजील और पोलैंड में भी फैला हुआ है। ब्रेनली के बारे में- ब्रेनली दुनिया का सबसे बड़ा ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफॉर्म है जहां छात्र और माता-पिता सवाल करने से लेकर समझने तक जाते हैं। Brainly.com और दुनियाभर की वेबसाइट्स और ऐप्स के अपने समूह में छात्र अपने साथियों और विशेषज्ञों से जुड़ते हैं और होमवर्क की समस्याओं और सवालों में मदद प्राप्त करते हैं। स्वतंत्र रूप से सवाल पूछने और आत्मविश्वास हासिल करने का अनूठा अवसर देता है, जो उन्हें दूसरों की मदद करने से आता है। छात्रों को एक सहयोगी समुदाय में सीखने के लिए प्रेरित करता है जो हर महीने वैश्विक स्तर पर 350 मिलियन से अधिक यूजर प्राप्त करता है। पूरे भारत में इसके यूजर 55 मिलियन से अधिक है। क्राकोव, पोलैंड में ब्रेनली मुख्य रूप से है और इसका अमेरिकी मुख्यालय न्यूयॉर्क शहर में है। ब्रेनली का इस्तेमाल वर्तमान में 35 देशों के यूजर कर रहे हैं।